कश्मीर के चुनाव ने भी साबित कर दिया 370 हटाने का फैसला सही

India अपराध-अपराधी खाना-खजाना खेल-खिलाड़ी टेक-नेट तीज-त्यौहार तेरी-मेरी कहानी नारी सशक्तिकरण युवा-राजनीति शिक्षा-जॉब

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि घाटी से भाजपा ने अपने उम्मीदवार क्यों नहीं दिए। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी के खिलाफ बहुत दुष्प्रचार किया जा रहा था। कहा जा रहा था कि राजनीतिक प्रभुत्व जमाने के लिए हमने विकास कार्य को तेजी दी। हमारी पार्टी में बहुत गंभीरता से विचार किया और तय किया कि पहले हम अपना संगठन मजबूत करेंगे फिर मैदान मे उतरेंगे।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि देश के बाकी हिस्सों में मतदान फीसद में कमी चर्चा का विषय है, लेकिन कश्मीर घाटी में जिस तरह मतदान फीसद दोगुना से भी ज्यादा हुआ उसने केंद्र सरकार के इस तर्क को और बल दे दिया है कि अनुच्छेद 370 हटने से लोकतंत्र की जड़ें मजबूत हुई हैं। सोमवार को श्रीनगर में लगभग 38 फीसद वोट पड़े, जो 1996 के बाद अब तक हुए चुनावों में सबसे अधिक है और 2019 चुनाव के मुकाबले दोगुना से ज्यादा।

गौरतलब है कि 2019 में मोदी सरकार के गठन के पहले सौ दिनों के अंदर ही सरकार ने 370 हटाने का विधेयक पारित कराया था। बतौर गृहमंत्री शाह ने ही इसे अमलीजामा पहनाया था। संसद से लेकर सड़क तक विपक्षी दलों ने इसका जमकर विरोध किया था और यहां तक चेताया था कि हिंसा का दौर शुरू हो जाएगा। अब तक सरकार की ओर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद विकास और सामाजिक न्याय के आंकड़ों को गिनाया जाता था, लेकिन अब जिस तरह वोटर बाहर निकले हैं, उसने लोकतंत्र की मजबूती का भी साक्ष्य दे दिया है, जिसकी प्रशंसा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *