RSS: चिकित्सा,विधि, उद्योग, शिक्षण, समाज सेवा व कृषि क्षेत्र के बंधु एवं बहनें भी दें रहीं अपना बहुमूल्य

India Uttar Pradesh Uttarakhand टेक-नेट तीज-त्यौहार तेरी-मेरी कहानी नारी सशक्तिकरण बॉलीवुड युवा-राजनीति लाइफस्टाइल शिक्षा-जॉब

लव इंडिया, मुरादाबाद: कृष्ण बाल विद्या मंदिर इंटर कॉलेज मंगूपुरा में विगत 15 दिन से चल रहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मेरठ प्रान्त के संघ शिक्षा वर्ग सामान्य (महाविद्यालीन विद्यार्थी एवम तरुण व्यवसायी) का समापन कार्यक्रम मंगलवार सांय को सम्पन्न हुआ।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पिछले 99 वर्षों से राष्ट्र के लिए आवश्यक गुण युक्त स्वयंसेवक निर्माण करने का कार्य कर रहा है इस प्रक्रिया में जिन कार्यकर्ताओं द्वारा कार्य किया जाता है उनके गुणात्मक विकास के लिए इस प्रकार के संघ शिक्षा वर्ग प्रतिवर्ष भीषण गर्मी में इन्हीं दिनों में आयोजित करता है न्यूनतम व्यवस्थाओं में सामान्यतः कम आवश्यकताओं में सामूहिक जीवन की कठोर साधना करने जैसा कार्य भी संघ की परिवेश में बहुत आनंददायक होता है यह संघ शिक्षा वर्ग पूरे मेरठ प्रांत के महाविद्यालयीन विद्यार्थी एवं 40 वर्ष की आयु तक की व्यावसायिक कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के लिए 3 जून दोपहर से प्रारंभ हुआ जिसका समापन समारोह आज यहां संपन्न हो रहा है इस वर्ग में 28 जिलों के 255 स्थान से 303 शाखाओं के शिक्षार्थियों ने भाग लिया है जिसमें स्नातक 73 व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करने वाले 72 परास्नातक 20 शोध छात्र 6 नौकरी करने वाले 28 शिक्षण संस्थानों में अध्यापक 29 आईटी प्रोफेशनल 4 चिकित्सक 16 व्यवसाय करने वाले 55 अधिवक्ता 16 सीए 1 एवं 37 कृषकों की सहभागिता है वर्ग में कुल 351 शिक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया व्यक्तिगत तात्कालिक समस्याओं के कारण 6 कार्यकर्ताओं को वापस जाना पड़ा 345 कार्यकर्ता बंधुओ ने प्रात 4 बजे से रात्रि 10 बजे तक कठोर दिनचर्या के अनुसार विभिन्न प्रकार से शारीरिक बौद्धिक एवं मानसिक प्रशिक्षण प्राप्त किया सेवा की संवेदना जागृत हो। इसके लिए क्षेत्र सेवा साधना सेवा प्रशिक्षण दिया गया। वहीं सामाजिक संपर्क एवं अन्य प्रकार प्रचार माध्यमों की कुशलता के लिए व्यावहारिक प्रशिक्षण भी दिया गया पर्यावरण दिवस पर सभी स्वयंसेवकों द्वारा पौधारोपण किया गया वर्ग में एक दिन बिना किसी पात्र के भोजन करने का प्रशिक्षण दिया गया उस दिन सभी कार्यकर्ताओं ने अपनी हथेली पर ही रखकर भोजन प्राप्त किया।

पर्यावरण संरक्षण सामाजिक समरसता सेवा स्वदेशी परिवार प्रबोधन नागरिक दिशा भारत मानचित्र परिचय देवी अहिल्याबाई होलकर एवम संघ के पुराने कार्यकर्ताओं के जीवन वृत्त जैसे विषयों की प्रदर्शनी भी वर्ग में लगाई गई देवी अहिल्याबाई होल्कर जी के 300 वे जयंती वर्ष के उपलक्ष में एक बड़ी कथा का आयोजन किया गया एवं 13 जून को सभी स्वयंसेवकों ने पथ संचलन किया। वर्ग के संचालन के लिए शिक्षार्थियों एवं प्रशिक्षण में लगे सभी कार्यकर्ता बंधुओ ने अपना गणवेश खरीद कर शुल्क देकर संघ शिक्षण पूर्ण किया जनपद मुरादाबाद जनपद में निवास करने वाले प्रमुख सामाजिक बंधु बहनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को निकट से देखने और समझने के लिए वर्ग दर्शन करने हेतु आए इस क्रम में चिकित्सा, उद्योग, शिक्षण, विधि, समाज सेवा, एवं कृषि क्षेत्र के बंधु एवं बहनों ने अपना बहुमूल्य समय देकर यहां पधारे। समापन कार्यक्रम में शारीरिक के कार्यक्रम जैसे घोष सरंचना, व्यायाम योग, आसन, खेल, दण्ड योग, दण्ड संचालन, दण्ड युद्ध, नियुद्ध, पद विन्यास, गण समता, संचलन आदि का प्रदर्शन किया गया।

इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रमुख समाज सेवी एवम निर्यातक विनय कुमार लोहिया ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राष्ट्रीय चरित्र निर्माण में संलग्न है यह एक उत्कृष्ट कार्य है मैं संघ के कार्यकर्ताओं को इस कार्य के लिए साधुवाद देता हूं।मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक के क्षेत्र प्रचारक महेंद्र कुमार ने समापन कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना 1925 में पूज्य० डॉ० केशवराव बलिराम हेडगेवार जी ने की। स्थापना के समय देश परतन्त्र था स्थापना का तात्कालिक उद्देश्य हिन्दु राष्ट्र को स्वतन्त्र करवाना। लेकिन जब देश स्वतन्त्र हो गया तो फिर अब संघ की क्या आवश्यकता, संघ ने विचार किया कि हमारी गौरवशाली परम्पराओं से धनी एवं हर प्रकार से समृद्ध होते हुये भी हमारा देश परतन्त्र क्यों हुआ ?

ज्ञान विज्ञान की उज्ज्वल परम्परा एवं पराक्रमी महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, पृथ्वीराज चौहान, महर्षि सुश्रुत, महर्षि चरक, आर्यभट्ट, बोधायन, नागार्जुन, भास्कराचार्य आदि विद्वानों का देश क्यों परतन्त्र हुआ यह सोचनीय विषय है। इसका एक कारण समाज में राष्ट्रीय चरित्र का अभाव, स्व का विस्मरण, आपस में भाषा, प्रान्त, जाति, उपजाति आदि के भेद, राजनैतिक समझ का अभाव बड़ा कारण रहा। स्वतन्त्रता प्राप्ति के उपरान्त संघ का दीर्घकालिक उद्देश्य हिन्दु समाज का सरंक्षण एवं राष्ट्र की सर्वागीण उन्नति की दिशा में अड़चनों जैसे निर्धनता, अस्पृश्यता, अशिक्षा, भृष्टाचार, बेईमानी, स्वार्थपरता, आतंकवाद, नक्सलवाद, घुसपैठ, आदि धर्म स्थलों की दुर्दशा, जातीय कटुता आदि का अध्ययन किया इसको दूर करने का कार्य केवल सरकार का ही नहीं है बल्कि इन समस्याओं के समाधान हेतु सम्पूर्ण समाज को जागरूक होने की आवश्यकता है।

यह कार्य संस्कारित एवं चरित्रवान प्रामाणिक तथा देशभक्त समाज के द्वारा ही सम्भव है और वर्तमान में इन गुणो की उत्तपत्ति का यशस्वी साधन अपना संघ या एक घण्टे की शाखा है।पश्चिमी देश सांस्कृतिक आक्रमणो में माध्यम से भारत की एकता अखंडता एवं अस्मिता को समाप्त करने के लिए प्रयासरत है।संघ शाखा से संस्कारित स्वयंसेवकों द्वारा समाज जागरण के कुछ उदाहरण दिये। कहा कि 1947 बंटवारे के समय पाक से आये हिन्दुओं के लिए 3000 राहत शिविर।

1962 में भारत चीन युध्द में संघ ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई सैनिक मार्गों का रक्षण, रसद पहुंचाने का कार्य किया। 1963 में भारतीय गणतंत्र की परेड में तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के निमंत्रण पर आरएसएस के 3500 स्वयं सेवकों ने परेड में भाग लेकर देश की नागरिक इच्छा शक्ति का अनूठा प्रदर्शन किया। 1965 भारत-पाक युध्द के मध्य तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी के निवेदन पर कानून व्यवस्था सम्भाली, रक्तदान, हवाई पट्टी से बर्फ हटाने का कार्य किया।


इस अवसर पर क्षेत्र कार्यवाह डॉ० प्रमोद कुमार, प्रांत प्रचारक अनिल कुमार, सह प्रांत प्रचारक विनोद कुमार, वर्ग अधिकारी रवि किरण, वर्ग कार्यवाह राजेश कुमार, वर्ग पालक शिवकुमार, विभाग संघचालक सुरेंद्रपाल सिंह, वर्ग बौद्धिक प्रमुख धनंजय सिंह, वर्ग मुख्य शिक्षक रमाशंकर, विभाग प्रचारक वतन कुमार, विभाग कार्यवाह योगेंद्र सिंह चौहान, विभाग प्रचार प्रमुख पवन कुमार जैन, महानगर संघचालक डॉ० विनीत गुप्ता, महानगर कार्यवाह विपिन चौधरी महानगर सायं प्रचारक रोहित कुमार, कृष्णा बाल विद्या इंटर कॉलेज के निदेशक ओम प्रकाश सिंह, प्रधानाचार्य कपिल देव, गोपाल सिंह, चंद्रपाल सिंह, देवेश सिंह शरद जैन, प्रमोद सिंह, प्रमोद जोशी, अनिल रस्तोगी, रामकिशोर सिंह, जितेंद्र सिंह, राहुल चौधरी, महानगर प्रचार प्रमुख संजीव चौधरी, राजेश तोमर साहित ओम प्रकाश शास्त्री, सतीश अरोड़ा, सुरेंद्रपाल सिंह एडवोकेट, रिंकू शर्मा, अरुण गौड़, अमित गुप्ता, अविनाश गुप्ता, चंद्रभान सिंह, गोपाल सिंह, डा० विनोद पांडे, महानगर के सभी क्षेत्र के प्रमुख स्वयंसेवक अनुसांगिक संगठनों के प्रमुख कार्यकर्ता एवं लगभग 5000 गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *