हाईकोर्ट का महत्वपूर्ण निर्णय : यूपी में इलेक्‍ट्रो होम्‍योपैथी की प्रैक्‍ट‍िस पर कोई रोक नहीं, लेक‍िन…

India Uttar Pradesh Uttarakhand टेक-नेट तेरी-मेरी कहानी नारी सशक्तिकरण युवा-राजनीति लाइफस्टाइल शिक्षा-जॉब


उमेश लव, लव इंडिया, प्रयागराज। इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ खंडपीठ ने एक महत्वपूर्ण निर्णय में कहा है कि उत्तर प्रदेश में इलेक्ट्रो होम्योपैथी की प्रैक्टिस पर कोई रोक नहीं है, लेकिन प्रैक्टिस करने वाले अपने नाम के आगे डॉक्टर नहीं लिख सकते हैं।

कोर्ट ने आगे कहा कि इलेक्ट्रो होम्योपैथी की पढ़ाई पर भी रोक नहीं है, लेकिन इसकी शिक्षा दे रहे संस्थान केवल प्रमाणपत्र जारी कर सकते हैं। सरकार ने इलेक्ट्रो होम्योपैथी के लिए अभी कोई कानूनी प्रविधान नहीं बनाया है, इसलिए संस्थान किसी को भी डिग्री या डिप्लोमा नहीं दे सकते हैं।

न्यायमूर्ति विवेक चैधरी और न्यायमूर्ति ओम प्रकाश शुक्ला की पीठ ने हरदोई और अयोध्या के इलेक्ट्रो होम्योपैथी के दो प्रैक्टिसनरों की याचिका को निस्तारित करते हुए यह आदेश दिया। याचिका वर्ष 2009 में दाखिल की गई थी। इसके बाद समय के साथ केंद्र सरकार, राज्य सरकार, सुप्रीम कोर्ट और कुछ हाई कोर्ट ने इलेक्ट्रो होम्योपैथी के विषय में आदेश जारी किए। उन सभी का संज्ञान में लेते हुए कोर्ट ने उपरोक्त आदेश दिया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *