भविष्य में रोबोट के माध्यम से होगी दंत चिकित्सा

India International Uttar Pradesh Uttarakhand खाना-खजाना खेल-खिलाड़ी टेक-नेट तेरी-मेरी कहानी नारी सशक्तिकरण युवा-राजनीति शिक्षा-जॉब

सामान्य सर्जिकल प्रक्रियाओं में ऑपरेशन के बाद की जटिलताओं पर व्याख्यान आयोजित किया गया


लव इंडिया, अलीगढ़। अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी(Aligarh Muslim University) के अजमल खान तिब्बिया कॉलेज(Ajmal Khan Tibbia College) के जराहत विभाग द्वारा जेवीएम यूनानी मेडिकल कॉलेज, पुणे, महाराष्ट्र के प्रसिद्ध यूनानी सर्जन, प्रोफेसर मंजूर अहमद द्वारा हाइब्रिड मोड में ‘सामान्य सर्जिकल प्रक्रियाओं में इंट्रा-ऑपरेटिव एवं पोस्ट-ऑपरेटिव जटिलताओं’ पर एक व्याख्यान का आयोजन किया गया। प्रोफेसर अहमद ने चित्रों और वीडियो की मदद से सामान्य सर्जिकल प्रक्रिया के दौरान होने वाली छोटी और बड़ी जटिलताओं के बारे में विस्तार से बताया और प्रक्रिया के दौरान होने वाली ऐसी जटिलताओं से बचने और उनका प्रबंधन करने के तरीकों पर प्रकाश डाला। इससे पहले, अतिथि वक्ता का स्वागत करते हुए, जराहत विभाग के अध्यक्ष प्रो. तफसीर अली ने वक्ता का परिचय दिया, जबकि डॉ. मोहम्मद तारिक ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

JNMC में डॉक्टरों को बेली स्केल पद्धति की जानकारी दी


उत्तर प्रदेश में पहली बार एएमयू के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज(Jawaharlal Nehru Medical College) के बाल विभाग में नवजात से लेकर 3.5 वर्ष के बच्चों की ग्रोथ में आने वाली परेशानियों को जांच ने के लिए बेली स्केल पद्धति से डॉक्टर को अवगत कराया गया। आज हुई कार्यशाला में देश में बेली स्केल ट्रेनिंग प्रोग्राम के लिए चलाए जा रहे अभियान की नेशनल ट्रेनर निधि गुप्ता ने बच्चों पर प्रैक्टिकल करके सिखाया इस टेक्निक के बारे में। ऐसे बच्चे जो ना बोल सकते हैं ना कुछ बता सकते हैं। उनके अंदर हो रही परेशानियों को जांचने के लिए अब अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के डॉक्टर को ट्रेनिंग के जरिए जानकारी दी  जा रही है । जिसके लिए आज एक कार्यशाला का भी आयोजन किया गया ।

एएमयू के दंत चिकित्सक ने रोबोट की सहायता से दंत चिकित्सा पर व्याख्यान दिया


अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के डॉ. जेड.ए. डेंटल कॉलेज(Dr. Z.A. Dental College) के प्रोस्थोडॉन्टिक्स एवं इम्प्लांटोलॉजी विभाग (Department of Prosthodontics & Implantology) की डॉ. श्रद्धा राठी(Dr. Shraddha Rathi) ने मुरादाबाद में इंडियन प्रोस्थोडॉन्टिक्स सोसाइटी(Indian Prosthodontics Society at Moradabad) की यूपी राज्य शाखा में ‘रोबोट के माध्यम से भविष्य की दंत चिकित्सा का विकास’ (Development of future dentistry through robots)विषय पर मुख्य व्याख्यान प्रस्तुत किया। अपने व्याख्यान में डॉ. राठी ने आगामी तकनीक के रूप में दंत चिकित्सा में रोबोटिक्स के महत्व पर प्रकाश डाला जो भारत में दंत स्वास्थ्य उपचार के संपूर्ण परिदृश्य को बदल देगा।

उन्होंने कहा कि कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) की मदद से, दंत प्रत्यारोपण करने के लिए रोबोट का उपयोग किया जा रहा है, और यह प्रक्रिया सटीक, समय बचाने वाली और कम थकान पैदा करने वाली है, जो हर गुजरते दिन के साथ लोकप्रिय हो रही है। उन्होंने कहा कि अब, मरीजों के चिकित्सा और दाँतों से सम्बंधित डेटा के भविष्य में उपयोग के लिए आसानी से संरक्षित किया जा सकता है और यह भारतीय मरीजों के लिए एक वरदान होगा, साथ ही यह संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और चीन में लोकप्रिय दंत प्रत्यारोपण तकनीक के बराबर होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *